हनीट्रैप में फंसे अधिकारियों को लूपलाईन में भेजने की तैयारी में हैं सीएम

0
5

भोपाल. हनीट्रैप में उलझते जा रहे अधिकारियों को सीएम जल्द ही आईना दिखाने की तैयारी कर ली है। सबसे पहले दो दर्जन अधिकारियों को लूप लाईन भेजने के लिये जगह तलाशी जा रही है। इनमें आईपीएस और आईएएस अधिकारी शामिल हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने हनी के खेल में गहरे फंसे अधिकारियों के सूची तैयार करने के निर्देश दे दिये हैं।
खुफिया सूत्रों का कहना है कि हनीट्रैप मामले की जांच जैसे जैसे आगे बढ़ रही है वैसे वैसे ही नये नामों का खुलासा आये दिन हो रहा है। हालांकि सरकार ने निर्देशों के चलते जांच को पूरी तरह से गोपनीय रखा है और कोई भी अधिकारी कुछ भी कहने से बच रहा है। लेकिन जांच की रिपोर्ट से शीर्ष अधिकारियों को रोज अवगत कराया जा रहा हैं।
ऐसा बताया जा रहा है कल कमलनाथ ने इस प्रकार के मामले को लेकर डीजीपी व सीएस से अलग अलग बात की है, इसके अलावा इन्दौर और भोपाल के अधिकारियों से भी पूरी रिपोर्ट ले ली गयी है। सीएम इस मामले को गुस्से में और काफी गंभीर है वह तरह के अधिकारियों को अपने स्तर पर सजा देना चाहते हैं जो सरकारी नियमों में गलियां ढूंढकर हनीट्रैप की महिलाओं को फायदा पहुंचा रहे हैं। गौरतलब है कि दो दिन पूर्व ही सीएम ने एडीजी स्तर के एक आईपीएस अधिकारी की भी क्लास ली थी।
पीसी मीना के बाद शुरू हुआ सर्विलांस सिस्टम
सूत्रों ने बताया है कि एसीएस स्तर के अधिकारी पीसी मीना का कथित मामला सामने आने के बाद से सरकार ने इस पूरे गिरोह को सर्विलांस पर ले लिया है और इसका दायित्व उक्त आईपीएस अधिकारी को सौंपा है लेकिन यह आईपीएस अधिकारी स्वयं ही हनीट्रैप के स्वाद लेने में जुट गया । इसलिये इस अधिकारी को एसआईटी से दूर रखा गया है। इसी प्रकार से मंत्रालय में बैठने वाले बड़े आईएएस अधिकारियों को परेशानी आने वाली है क्यों कि एक दर्जन से अधिकारियों की सूची तैयार हो रही है। जिन अधिकारियों का नाम हनीट्रैप में सामने आ रहा है वह सभी अधिकारी मलाईदार पदों पर बैठे हुए है इन सभी अधिकारियों के लिये लूपलाईन तलाशी जा रही है ।
सर्विलांस से बेनकाब
सर्विलांस में कई अधिकारी बेनकाब हो गये है। यह भी सामने आया है कि मालवा के बड़े जिले में कलेक्टर रहें रंगीन मिजाज आईएएस अधिकारी भी हनीट्रैप में फंसी महिला से मिलने के लिये आते थे । उन्हें शायद यह मालूम नहीं था कि उन पर नजर रखी जा रही है। वहीं, एक वनविभाग के एक बड़े अधिकारी ने भी अपनी पदस्थापना व पदोन्नति को लेकर इसी गैंग की एक महिला को ऊपर तक भेजता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here