श्रीमद भागवत कथा के अंतिम दिन सुदामा चरित की कथा का सुंदर वर्णन किया गया-रिपोर्ट-रानू पांडेय

20

मोंठ झाँसी- कस्बा के अंदर किला स्थित श्री शीतला माता मंदिर पर चल रही श्रीमद भागवत कथा के अंतिम दिन सुदामा चरित की कथा का सुंदर वर्णन किया गया। क‌थाव्यास साध्वी पूजा भारती ने कहा कि भागवत के श्रवण करने से मनुष्य जन्म-जन्मांतर के कष्टों से मुक्त हो जाता है। मनुष्य भौतिकता के चलते सांसारिक प्रलोभनों से घिरा हुआ है। सुदामा अपने बचपन के सखा भगवान श्रीकृष्ण से मिलने पहुंचे तो सुदामा उनके गले मिलकर रो पड़े। भगवान श्रीकृष्ण ने सुदामा द्वारा लाये गये चावल की दो मुठ्ठी खाने से सुदामा को दो लोकों का वैभव प्रदान किया। कथा के बीच हुये भजनों पर श्रद्घालु जमकर झूमे। श्रीकृष्ण के जयकारों से पंडाल झूम उठा। नगर पंचायत चेयरमैन अनुरुद्घ कुमार यादव ने आरती की। इस मौके पर खरारी सोनी, महेशचन्द्र बादल, प्रदीप यादव, राजीव कुमार, राजू रायकवार, अर्पण व्यास, भरत देवरिया, मोहित द्विवेदी, कल्लू नायक, सोम द्विवेदी, राहुल उदैनिया, आकाश तिवारी एवं राजेन्द्र परिहार आदि अनेक लोग मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here